मुख्य क्रिप्टोकरेंसी

ट्रेलिंग स्टॉप

ट्रेलिंग स्टॉप
इसे अभी उदाहरण के तौर पर समझते है। समझ लीजिये आपको कोई १०० रुपये का शेयर ख़रीदा। और आपको लगता है की ये शेयर ११० रुपये तक ऊपर जा सकता है। लेकिन आपको शंका है की कही ये निचे ना आजाये। इसीलिए आप स्टॉप लॉस लगाते हो ९८ रुपये का। इसका मतलब अगर शेयर की प्राइज ऊपर जाने की बजाय निचे आती है। तो स्टॉप लॉस लगाने की वजह से आपको सिर्फ २ रुपये का नुकसान होगा। क्युकी स्टॉप लॉस लगाने से आपका शेयर अपने आप ९८ रुपये पे बिक जायेगा।

Options Trading: क्‍या होती है ऑप्‍शंस ट्रेडिंग? कैसे कमाते हैं इससे मुनाफा और क्‍या हो आपकी रणनीति

By: मनीश कुमार मिश्र | Updated at : 18 Oct 2022 03:40 PM (IST)

ऑप्‍शंस ट्रेडिंग ( Image Source : Getty )

डेरिवेटिव सेगमेंट (Derivative Segment) भारतीय बाजार के दैनिक कारोबार में 97% से अधिक का योगदान देता है, जिसमें ऑप्शंस एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनता है. निवेशकों के बीच बाजार की जागरूकता बढ़ने के साथ, ऑप्शंस ट्रेडिंग (Options Trading) जैसे डेरिवेटिव सेगमेंट (Derivative Segment) में रिटेल भागीदारी में उछाल आया है. इसकी मुख्‍य वजह उच्च संभावित रिटर्न और कम मार्जिन की आवश्यकता है. हालांकि, ऑप्शंस ट्रेडिंग में उच्च जोखिम शामिल है.

क्‍या है ऑप्‍शंस ट्रेडिंग?

Options Trading में निवेशक किसी शेयर की कीमत में संभावित गिरावट या तेजी पर दांव लगाते हैं. आपने कॉल और पुष ऑप्‍शंस सुना ही होगा. जो निवेशक किसी शेयर में तेजी का अनुमान लगाते हैं, वे कॉल ऑप्‍शंस (Call Options) खरीदते हैं और गिरावट का रुख देखने वाले निवेशक पुट ऑप्‍शंस (Put Options) में पैसे लगाते हैं. इसमें एक टर्म और इस्‍तेमाल किया जाता है स्‍ट्राइक रेट (Strike Rate). यह वह भाव होता है जहां आप किसी शेयर या इंडेक्‍स को भविष्‍य में जाता हुआ देखते हैं.

ट्रेलिंग ट्रेलिंग स्टॉप स्टॉप

महज सात दिन में निवेशकों का पैसा करीब-करीब दोगुना करने वाला टाटा ग्रुप ट्रेलिंग स्टॉप का मल्टीबैगर स्टॉक में लगातार पांचवें दिन उड़ान भरा है। शेयर बाजार खुलने के कुछ ही मिनटों के भीतर टीआरएफ शेयरों ने नया रिकॉर्ड बनाया है। टीआरएफ शेयर के भाव आज बढ़त के खुले और लगातार 5वें सत्र में 10 प्रतिशत अपर सर्किट के साथ एनएसई पर ₹324.35 के नए ऑल टाइम हाई पर पहुंच गए। टाटा समूह का यह शेयर पिछले पांच लगातार सत्रों से अपर सर्किट और ताजा लाइफ-टाइम हाई दोनों को एक साथ मार रहा है।

5 सत्रों में लगभग 60 प्रतिशत रिटर्न


शेयर बाजार के जानकारों के मुताबिक शेयर में लगातार अपर सर्किट लग रहा है और इसलिए नई खरीदारी का सुझाव नहीं दिया जा सकता है। हालांकि, उन्होंने कहा कि स्टॉक के 'अपट्रेंड' जारी रहने की उम्मीद है और निवेशकों को ₹300 पर ट्रेलिंग स्टॉप लॉस बनाए रखने की सलाह दी है। यह स्टॉक छोटी से मध्यम अवधि में ₹420 के स्तर तक जा सकता है। पिछले 5 सत्रों में अपने शेयरधारकों को लगभग 60 प्रतिशत रिटर्न दे चुका है।

types of stop loss स्टॉप लॉस के प्रकार

अभी आपको शेयर बाजार में स्टॉप लॉस (what is stop loss ट्रेलिंग स्टॉप orde)क्या होता है ये तो समझ आ गया होगा। अभी हम स्टॉप लॉस के प्रकार कितने और कोनसे होते है। ये समझते है। स्टॉप लोस के दो प्रकार होते है। एक होता है primary stop loss .और एक होता है trailing stop loss . तो जानते हे इनके बारे में विस्तार में।

१.primary stop loss

ये एक फिक्स स्टॉप लॉस होता है। मतलब आप एक फिक्स रेंज में इस स्टॉप लॉस को लगते हो। जैसे की आप इस स्टॉप लॉस को स्टॉक प्राइज के सपोर्ट के निचे लगते हो। ज्यादातर अनुभवी ट्रेडर्स ऐसाही करते है। लेकिन जो शेयर बाजार में नए होते है उन्हें तो स्टॉप लॉस मालूम ही नहीं होता। और जिनको मालूम होता है। वो कभी उसे लगाते ही नहीं है। क्यकि शेयर की प्राइज ऊपर निचे होती रहती है। तो उन्हें लगता है की हमारा स्टॉप लॉस हिट होकर फिरसे प्राइज ऊपर जायेगा। इस सोच की वजह से उन्हें और भी ज्यादा नुकसान उठाना पड़ता है।

stop loss order lagane ke fayde

स्टॉप लॉस लगाने से आपका नुकसान आप के काबू में होता है। स्टॉप लॉस से आप चाहे उतनाही नुकसान आपको हो सकता है उसके ऊपर आपको नुकसान नहीं हो सकता। मार्किट में अचानक मंदी आती है। और जिस प्राइज पर आपने स्टॉप लॉस लगाए है। उसकी प्राइज पर ट्रेलिंग स्टॉप आपकी पोजीशन एग्जिट हो जाती है।

trailing stop loss का तो नहुत बड़ा फायदे ट्रेलिंग स्टॉप है। जैसे की मैंने बताया जब आप ट्रेडिंग के लिए शेयर खरीदते हो। तो ऊपर जाने पर आप अपना निचे का स्टॉप ऊपर लगा सकते हो।जिससे आपको लॉस होगा ही नहीं। कुछ न कुछ प्रॉफिट तो आपको ट्रेलिंग स्टॉप लॉस से मिल ही जाता है।

stop loss na lagane ke nuksan

अगर आपने किसी स्टॉक में पोजीशन ली है। और अचानक से बाजार में मंदी आती है। और आपने ख़रीदा हुए शेयर में अचानक से गिरावट होने लगती है। तो उस टाइम पर अगर आपने स्टॉप लॉस नहीं लगाया। तो फिर आपका बड़ा नुकसान उठाना पडत है। जब तक आप उस शेयर को बेचने लगोगे तबतक तो शेयर काफी गिर गया होगा।

बहुत लोगो की मानसिकता होती है की शेयर निचे गया है ऊपर भी आएगा। और वो स्टॉप लॉस नहीं लगते। वो फिर भी मार्केट से एग्जिट नहीं करते। और फिर उनका ज्यादा नुकसान दिखने लगता है। तो और ज्यादा वो डरने लगते है। और इतना लॉस में नहीं ले सकता। ऐसा वो सोचने लगते है। लेकिन उनका और भी ज्यादा लॉस हो जाता है। पूरा कैपिटल ही ख़तम हो जाता है।

दरअसल ऐसा दस बार में से एक बार होता है की आपका निचे गया हुआ स्टॉक फिर से ऊपर आया हो। और आपका फायदा हुआ हो। लेकिन आप हर बार ये अंदाजा लेके नहीं चल सकते की स्टॉप लॉस नहीं लगाना शेयर निचे जाके ऊपर आएगा। क्युकी हर बार वो शेयर ऊपर आएगा ही। इस सोच की वजह से लोगो को और भी ज्यादा नुकसान उठाना पड़ता है।

Medanta Share Price : मेदांता के शेयरों में दूसरे दिन उछाल, आईपीओ मूल्य से 35 फीसदी ऊपर पहुंचे भाव

इंडिया.कॉम लोगो

इंडिया.कॉम 6 दिन पहले [email protected] (India.com News Desk)

© Manoj Yadav | India.com Hindi News Desk Global Health Ltd, That Manages Medanta Hospitals, To Go IPO Route Next Week

Medanta Share Price : बुधवार को अच्छी लिस्टिंग के बाद, ग्लोबल हेल्थ शेयर की कीमत लिस्टिंग के पहले दिन के बाद से ऊपर की ओर ही बढ़ रही है. मेदांता शेयर की कीमत आज ऊपर की ओर खुली और एनएसई पर 455.70 रुपये प्रति शेयर के नए उच्च स्तर पर चढ़ गई, शेयर बाजार के खुलने के कुछ ही मिनटों के भीतर, गुरुवार को इंट्राडे ट्रेड सत्र में लगभग 10 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई.

प्रॉफिट प्रोटेक्शन स्टॉप के तीन प्रकार (क्यू ट्रेलिंग स्टॉप QQQ) | इन्वेस्टमोपेडिया

प्रॉफिट प्रोटेक्शन स्टॉप के तीन प्रकार (क्यू QQQ) | इन्वेस्टमोपेडिया

मुनाफे की रोकथाम के लिए एक जीत व्यापार के एक टुकड़े में लॉक करना चाहता है जबकि स्थिति को पूर्व-व्यापार विश्लेषण में देखा गया है। यह अच्छी तरह से रखता है, इसकी सुरक्षा रखता है, सुरक्षा को लटकाने की अनुमति देता है और इंट्रेडै बाजार में आम तौर पर उच्च शोर स्तरों के माध्यम से झुकाता है, लेकिन अगर प्रवृत्ति अचानक बदलती है तो नुकसान कम करने के लिए तैयार है।

व्यापार एक बाधा है जिसमें किसी भी समय कुछ भी हो सकता है। इस अनिश्चितता को रोकता है, शर्तों को बदलते समय एक सुरक्षित निकास प्रदान करता है या खराब योजना या निष्पादन ट्रेलिंग स्टॉप के कारण स्थिति विफल होती है। स्टॉप की कई किस्मों में आती है, जिसमें स्तरों पर रोक नुकसान शामिल होता है जहां तकनीकी सेटअप टूट जाता है, प्रवेश के बिंदु पर रखा गया मुफ़्त बंद हो जाता है, और जब तकनीकी सेटअप का इरादा है तो लाभ सुरक्षा रोकती है

गेटेल का प्रॉफिट अनुमान क्यू 4 परिणाम (एमएटी) के आगे बढ़े हैं। इन्वेंटोपैडिया

गेटेल का प्रॉफिट अनुमान क्यू 4 परिणाम (एमएटी) के आगे बढ़े हैं। इन्वेंटोपैडिया

ट्रेलिंग-स्टॉप / स्टॉप-लॉस कॉम्बो ट्रेडिंग करने की ओर जाता है

स्टॉप जोखिम कम करने और पोर्टफोलियो मूल्य की रक्षा के लिए लॉस आदेश।

स्टॉप ऑर्डर और स्टॉप लिमिट ऑर्डर के बीच अंतर क्या है? | इन्वेस्टमोपेडिया

स्टॉप ऑर्डर और स्टॉप लिमिट ऑर्डर के बीच अंतर क्या है? | इन्वेस्टमोपेडिया

स्टॉप ऑर्डर और स्टॉप लिमिट ऑर्डर के बीच अंतर सीखना व्यापारी इन्हें रोकने के नुकसान के रूप में उपयोग करते हैं और नियमित निवेशकों को यह समझना चाहिए कि प्रत्येक प्रकार कैसे काम करता है

रेटिंग: 4.95
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 217
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *