ट्रेडिंग के लिए ब्रोकर समीक्षा

ब्रोकर पर जाएँ

ब्रोकर पर जाएँ
Try free Demo No thanks

Ankit Khandelwal

Engineer, Innovator of Globally Recognised 'Zero Cost MBA', Journalist, Polyglot

Poem: Aap Party Hain Ya Broker (आप पार्टी हैं या ब्रोकर)

Background: Whether you call them broker, middle-man or agent, nothing much can happen without their presence in the real estate industry. They help us in finding our dream house and without them, it is impossible to easily find something in a big city(especially in India). But, in the process of finding our dream house, we also have to bear some strange situations that comes along with it.

In India, bachelors face much more problem because of social prejudice against them and special criterion set by the owners. Nevertheless, this poem does not mean to dishonor anyone. It is just an attempt to bring out those situation in slightly comic way.

If you have ever searched a house for renting/buying purposes,then you may relate yourself easier to this poem. This poem can especially written for Indian situations, so certain context may not be easily understood by readers, living outside the India.

Note: This poem is written in Hindi and in English. Subtitles and situational awareness has been provided, wherever seemed necessary.

Title: आप Party हैं या Broker

When you reach on time, everyone is late
When you reach late, everyone is shouting at you
जिंदगी मैं बेवकुफो की कमी नहीं हैं(There is no shortage of stupid people in life), embrace it
बस ब्रोकर पर जाएँ एक बेवकूफ चाहियें(You need only one stupid person), it may have a hearty laugh

Ignorance is really a bliss, if you can practice it
Renting a house easily is a myth, if you can dis-prove it
Moments of this pain-staking process cannot be ignore practically
But, ignoring the importance of broker will not go disproportionately

#Situation: A Youngster is deeply frustrated from a broker and house search, he is virtually talking to a broker(real estate agent)

आप party हैं या broker (Are you a party or broker)
या हैं Italian Job के Charlie Crocker (or the charlie crocker of the Italian Job)
लगता नहीं, हैं आप दीपावली के कोई Fire Cracker (You don’t look like firecracker of Diwali)
ओह हो, आप हैं इस building के broker (Oh! I see, You are the broker of this building)

#Youngsters especially face huge problems and brokers use different tricks to get them house, in return they ask for lot of money

फर्जी शादी हो या दिखावे का मंगलसूत्र (Fake marriage or the show-off of the wedding ring)
पार्टी का मोटापा देख झोली भरते हो खूब (Looking at size of party, feel your pockets deep)
कभी डराते हो, शाकाहारी एवं माँसाहारी के नाम पर (Sometimes you scare us on the name of vegetarian and non-vegetarian)
तो कभी करते हो इधर उघर की parade (Sometimes you make us to roam around unnecessarily)

Youngsters से आपकी अच्छी खासी दुश्मनी (Youngsters are your special enemies)
Family ना हो तो, टरका देते हो एक corner मैं हमें (If we are not married, you send us into one remove corner )
Inflation high हो तो या low exchange rate (Whether it is a high inflation or even low currency exchange rate)
रखते हो तराजू का पलड़ा अपनी तरफ ही heavy (You keep the bar of commission heavy always on your side)

#Commission world: Just like the Mafia World
Commission की दुनिया मैं आप हैं पुराने खिलाडी (You are veteran in the world of commissions)
चाहें होली हो या दिवाली (either it is the festival of holi or diwali)
भरती आपकी हैं, हर दिन currency से झोली (Your pockets are filled with currency daily)
50% discount season मैं भी चलती है no bargain policy (Even during the 50% discount season, you exercise no bargain policy)

मकान मालिक से लेकर किरायेदार, सब हैं आपके कद्रदान (Everyone is your beneficiary, from owner to tenant)
Furniture लगाने के नाम पर ले लेते हो पैसे आसान (You snatch away money so easily on the name of putting furniture)
हो पर contract मैं बनाते हो कइयों के eye witness (But still becomes eye witness in many of these house leasing contracts)
मानना पड़ेगा आप हैं real estate industry के खुदा गवाह (I accept!! You are the god of real estate industry)

#Changing face: Initially brokers chase you but once they have sold/rented the house, you chase them for different problems surfaced in your newly bought/rented house

वहा तक साथ चलते हो, जहा तक साथ मुमकिन हैं (You are with us, until you like to be)
जहा हालात बदल जाएँ, तुम भी बदल जाते हो (On changing situation, you also change)
पर E-commerce और customer is king के ज़माने मैं (but, in e-commerce and customer is king time)
क्या ख्याल हैं आपका return policy के बारें मैं? (What do you think about the return policy?)

तय कर रखे हैं तुमनें अपने standards (You have set your own standards)
फटे दूध के पिने पर जैसे मिलता हैं, bitterness का अहसास(Just like we experience bitterness after drinking the burnt milk)
Layer by layer धीरे धीरे खुलता हैं राज(layer by layer your hidden secrets gets unveiled)
कही पर बिजली हैं खली तो किसी मकान मैं पानी की मारी हैं जनता बेचारी (In some house there is no electricity and in house , people are complaining about the water)

#Politeness: What can a common man do?
क्या करे a common man बेचारा (But what a common man can do?)
सुख सुविधाओं के dream का हैं वो मारा (He is blinded by the luxuries of life)
सोचता हैं, हमेशा एक Flat/बंगला मिले न्यारा (Think of only finding a good flat/house)
पर तुम्हारें चक्कर मैं, खाता हैं approval की ठोकरे government offices के द्वारे
(but he run around the government offices to get approvals because of you)

#Need for brokers: We do need them, else things will never be good. Especially in Bengaluru, traffic jam is becoming a problem. So, companies need to allow work from home.

२१ century मैं भी आपका ना हैं कोई तोड़ (There is no alternative of you even in 21st century)
Facebook पर चाहें जितनी community बना ले (No matter, how many community person can form on the Facebook)
आपकी वजह से ही कईयों के घर हैं बसते (Many relationships are formed because of you)
और अनेको के खवाब हैं सजते (Many dreams are shaped by you)

In Bengaluru,
Companies need to give work from home
Home sweet home without a broker is a dilemma
Arranging advance on time became fastest finger game
Only Ussain Bolt can win changing houses race every time

#In the end
जो होता हैं ,happens for a reason. (Whatever happens, happens for a reason)
There is a take away, if you can figure out
Wishing every house hunters a good luck
Can be the most thoughtful way to get away from here

Special thanks to:
Entire team of the Bollywood Movie ‘Khosla Ka Ghosla’

&
Miss Suguna Dewan (https://twitter.com/SugunaDew)
(Many of her wonderfully crafted tweets became part of one line/paragraph in this poem)


Recitation details

Event: Let Poetry Be Monthly Meetup
Venue: Atta Galtta, Bengaluru
Date: 20.08.2016
Event theme: Free reading: Any theme is acceptable
Read the event summary here

Recitation video:

Disclaimer: This poem was written purely to entertain people and explain difficulties of life in an easier manner. This artistic work, in no way, intends to harm or dishonor the work of real estate industry and their workers.

5 सर्वश्रेष्ठ ब्रोकर

वित्तीय बाजारों में लाभ कमाने की संभावनाएं असाधारण हैं—ऐसी कई खबरें दुनियाभर में सुनने को मिलती हैं जिनमें कुछ ही दिनों में साधारण लोग करोड़पति बन जाते हैं। लेकिन हर उस कहानी की शुरुआत सही ब्रोकर के चुनाव से होती है।

बाइनरी ऑप्शन के संदर्भ में “अधिकतम रिटर्न” का क्या अर्थ है?

बाइनरी ऑप्शन के ब्रोकर कभी निर्धारित रिटर्न (प्रतिलाभ) और कभी-कभी प्रतिशत आधार पर रिटर्न वितरित करते हैं। अक्सर रिटर्न प्रतिशत आधार पर ही वितरित किए जाते हैं। इसके लिए ब्रोकर आश्वासित रिटर्न को बाजार की गतिविधियों के अनुसार नियमित करते हैं। पारंपरिक डिजिटल ऑप्शन (कॉल, पुट, रेंज और पेअर ऑप्शन) में आमतौर पर रिटर्न 80 से 94% के बीच रहता है, हाई यील्ड (उच्च प्रतिलाभ) टच ऑप्शन में यह रिटर्न कई सौ प्रतिशत तक (असाधारण परिस्थितियों में 1,000% से भी ऊपर) जा सकता है।

बाइनरी ऑप्शन (द्विआधिकारी विकल्प) कैसे कार्य करते हैं?

बाइनरी ऑप्शन कैसे कार्य करते हैं यह बहुत ही आसानी से समझाया जा सकता है, और गैर अनुभवी या नौसिखिए भी इसे जल्दी समझ सकते हैं।

बाइनरी ऑप्शन में ग्राहक यह अंदाज लगाता है कि किसी विशेष परिसंपत्ति का मूल्य चुनी गई ऑप्शन अवधि में बढ़ेगा या घटेगा। अधिकांश ब्रोकर, जिनके जरिए बाइनरी ऑप्शन ट्रेडिंग की जा सकती है, चार प्रकार की परिसंपत्तियां प्रदान करते हैं, जिनमें शेयर, इंडेक्स, विदेशी मुद्रा, बिटकॉइन (क्रिप्टो मुद्रा), और उत्पाद शामिल हैं। उदाहरण के तौर पर, यदि कोई यह अनुमान लगाता है कि आने वाले दिनों में सोने के भाव बढ़ेंगे, तो उसे बस कोई ऐसा बाइनरी ऑप्शन चुनना होता है जहां परिसंपत्ति सोना है, और एक ऑप्शन अवधि चुननी होती है, जैसे कि एक मिनट या एक सप्ताह। निवेशक लाभ तभी कमाता है जब भाव या मूल्य में अपेक्षित बदलाव ऑप्शन की समय समाप्ति पर वास्तव में हुआ हो।

बाइनरी ऑप्शन ट्रेडिंग के लाभ

ग्राहक का अनुमान “सही” निकलने और मूल्य में अनुमानित बदलाव होने की स्थिति में 900 प्रतिशत तक के रिटर्न प्राप्त किए जा सकते हैं। अतः अटकलबाजी करने वालों के पास कुछ हद तक यह मौका होता है कि वे केवल कुछ ही मिनटों में तीन अंकों की प्रतिशत रेंज में ऊंची कमाई कर लें।

trading212 logo

trading212 info

Try free Demo No thanks

Brokerlytix is your No. 1 Forex / CFD guide, that will help you find the best broker. Brokerlytix is free for everyone, but earns commission from some of the brokers. We get a commission, with no additional cost for you.

मुहूर्त ट्रेडिंग पर स्टॉक ऑर्डर कैसे दें?

आपने यहां मुहूर्त ट्रेडिंग, उसकी हिस्ट्री और ट्रेडिंग के फायदों के बारे में पढ़ा होगा। हर साल, मुहूर्त ट्रेडिंग सेशन की समय सीमा दिन के सबसे अच्छे समय के दौरान तय की जाती है, और यह समय एक्सचेंजों द्वारा निर्धारित किया जाता है। इस साल यह सेशन गुरुवार, 4 नवंबर 2021 को आयोजित किया जाएगा।

यदि आप सोच रहे हैं कि इस घंटे भर के ट्रेडिंग सेशन के दौरान ऑर्डर कैसे दिया जाए, तो इस आर्टिकल में इसकी पूरी जानकारी दी गई है। इस आर्टिकल में आर्डर देने का तरीका बताया गया है और यह भी बताया गया है कि इस सेशन के दौरान ऑर्डर देना सामान्य ट्रेडिंग सेशन से कैसे अलग है। मुहूर्त ट्रेडिंग के दौरान इन्वेस्ट करने के लिए यह आर्टिकल पढ़ें और आर्डर प्लेस करने के बारे में जानें।

इस आर्टिकल में इनके बारे में बताया है :

● मुहूर्त ट्रेडिंग के बाजार का शेड्यूल

● मुहूर्त ट्रेडिंग और सामान्य दिनों में ऑर्डर देने में अंतर

● मुहूर्त ट्रेडिंग के दौरान ऑर्डर देने के स्टेप्स

मुहूर्त ट्रेडिंग का बाजार का शेड्यूल

मुहूर्त ट्रेडिंग और सामान्य दिनों में ऑर्डर देने में अंतर

  • मुहूर्त ट्रेडिंग सेशन के दौरान किए गए ट्रेड सामान्य ट्रेडों जैसे ही होते हैं, और एक्सचेंज ऑपरेशन, अपने नियमित समय के बावजूद, अपरिवर्तित रहता है।
  • मुहूर्त ट्रेडिंग के दौरान, सभी सौदे निपटान दायित्वों में बदलते हैं। शेयर खरीदते या बेचते समय, लेन-देन पूरा करने के लिए खरीदार और विक्रेता दोनों को अपने दायित्वों को पूरा करना चाहिए। सेटलमेंट पीरियड के दौरान, खरीदार शेयरों के लिए पेमेंट करता है, और विक्रेता शेयरों को डिलीवर करता है।
  • 4 नवंबर 2021 को मुहूर्त ट्रेडिंग के बाद 5 नवंबर 2021 को दिवाली के उपलक्ष्य में बाजार बंद रहेंगे। शेयर आपके डीमैट अकाउंट में 8 नवंबर 2021 को भेज दिए जाएँगे।
  • बाजार बंद होने से 10 मिनट पहले, सभी एमआईएस (एमआईएस), बीओ (बीओ), और सीओ (सीओ) पदों को स्क्वायर ऑफ कर दिया जाएगा। मुहूर्त ट्रेडिंग सेशन में, उपरांत मार्केट ऑर्डर (एएमओ) इक्विटी के लिए शाम 5:57 बजे तक और एफ एंड ओ के लिए शाम 6:10 बजे तक जमा होंगे।

ऑर्डर के प्रकार (H2)

यहां कुछ प्रकार के ऑर्डर दिए गए हैं जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए:

  • मार्जिन इंट्राडे स्क्वायरऑफ़ (एमआईएस) एक प्रकार का ऑर्डर है जिसका इस्तेमाल तब किया जाता है जब आप उसी दिन ट्रेडिंग सेशन के दौरान स्टॉक खरीदना और बेचना चाहते हैं।
  • ब्रैकेट ऑर्डर (बीओ) में आप एक रेंज में ट्रेड कर सकते हैं। जैसा कि आप टारगेट प्राइस और स्टॉप लॉस डालते हैं। यह आपका ब्रैकेट बनता है। स्टॉप लॉस प्लेस करते समय आपको वह अमाउंट डालना है जिसे खोने का आप जोखिम उठा सकते हैं। यदि आप प्रत्येक शेयर पर 10 रुपये खो सकते हैं तो जब भी स्टॉक की मौजूदा कीमत 10 रुपये से गिरेगी, आपका स्टॉप लॉस होगा और आपका ऑर्डर 10 रुपये के नुकसान के साथ बुक हो जाएगा। टारगेट के लिए भी यही किया जाता है।
  • कवर ऑर्डर (सीओ) में आपको अधिक लीवरेज मिलता है, आप कम मार्जिन पर अधिक खरीद सकते हैं, आप स्टॉप लॉस ट्रिगर लगा सकते हैं ताकि रिस्क कवर किया जा सके।
  • कैश एंड कैरी (सीएनसी): यदि आप स्टॉक को एक दिन से अधिक/लॉन्ग-टर्म इन्वेस्टमेंट के लिए रखना चाहते हैं तो इसका इस्तेमाल करें।
  • मार्केट (एमकेटी): इसमें आप शेयर को मौजूदा भाव पर खरीदते हैं। अगर आप इस ऑप्शन पर क्लिक करते हैं, तो आप उस कीमत को नहीं बदल सकते जिस पर आप स्टॉक खरीदना चाहते हैं और ऑर्डर स्टॉक के मौजूदा मार्केट प्राइस पर किया जाएगा।
  • लिमिट (एलएमटी): इस प्रकार के ऑर्डर में आप वह कीमत तय कर सकते हैं जिस पर आप स्टॉक खरीदना चाहते हैं। जैसे ही मार्केट प्राइस आपके चुने हुए प्राइस से मिलेगा तो आपका ऑर्डर प्लेस हो जाएगा।
  • स्टॉप लॉस लिमिट ऑर्डर (एसएल): अगर आप नुकसान को कम करना चाहते हैं, तो आपको स्टॉप लॉस लगाना होगा। उदाहरण के लिए, अगर आप 1,000 रुपये का स्टॉप लॉस लगाते हैं तो जब आपके स्टॉक की कीमत रु 1,000 या उससे कम होगी, तो आपका स्टॉक बेच दिया जाएगा।
  • स्टॉप लॉस मार्केट ऑर्डर (एसएल-एम): इसमें आप ट्रिगर प्राइस सेट करते हैं, जो कि वह प्राइस है जिस पर आपका स्टॉक आपके द्वारा लगाए गए ट्रिगर प्राइस के आसपास बेचा जाता है।
  • मार्केट ऑर्डर (एएमओ) के बाद: यदि आप मुहूर्त ट्रेडिंग सेशन के दौरान ऑर्डर नहीं दे पाते हैं तो आप अगले दिन के लिए ऑर्डर दे सकते हैं।

मुहूर्त ट्रेडिंग (H2) के दौरान ऑर्डर देने के स्टेप्स

शेयरों में ट्रेड/इन्वेस्ट करने के लिए डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट होना ज़रूरी है। अगर आप इन्वेस्टिंग शुरू करने का सोच रहे हैं, तो टिकरटेप ऐप का इस्तेमाल करें।

टिकरटेप (Tickertape) से ऑर्डर देने के लिए इन स्टेप्स को फॉलो करें:

  • टिकरटेप वेबसाइट पर जाएँ या अपने फोन में इसका ऐप लॉन्च करें।
  • सुनिश्चित करें कि आपका ब्रोकर अकाउंट टिकरटेप से जुड़ा हुआ है, और आपके ब्रोकर अकाउंट लेजर में धन उपलब्ध है।
  • अपने वांछित शेयरों की रिसर्च करने के बाद उन्हें टिकरटेप पर खोजें (उदाहरण के लिए, यहाँ स्क्रीनशॉट में देखें कि जब हम टाटा पावर स्टॉक सर्च करते हैं तो स्क्रीन कैसी दिखती है)।
  • जब आप स्टॉक का नाम डालेंगे तो स्टॉक पेज पर पहुँच जाएँगे। इस पेज पर आप किसी विशेष स्टॉक से जुड़े प्रमुख मैट्रिक और इन्वेस्टमेंट चेकलिस्ट देख सकते हैं।
  • प्लेस ऑर्डर पर क्लिक करें। एक आर्डर डिटेल्स बॉक्स दिखेगा जिससे आप अपने आर्डर को कस्टमाइज (अनुकूल) कर सकते हैं।
  • इस पॉपअप में, आप अपने ऑर्डर के प्रकार (बाय या सेल) के साथ-साथ उसकी मात्रा भी इंडीकेट कर सकते हैं। अमाउंट के फ़ील्ड में स्टॉक की मात्रा और पिछले ट्रेडेड मूल्य भरा हुआ होता है। टिकरटेप ऑर्डर असल में मार्केट ऑर्डर होते हैं, यह आंकड़ा अंतिम खरीद/बिक्री अमाउंट का अनुमान है क्योंकि ट्रेड ऊपर दिए गए मूल्य से अलग मूल्य पर भी किया जा सकता है।
  • ‘बाय नाउ (या सेल) का ऑप्शन चुनकर आप किसी विशिष्ट स्टॉक के लिए ऑर्डर कर सकते हैं, और यदि आप एक से अधिक स्टॉक ऑर्डर देना चाहते हैं, तो आप बास्केट फ़ीचर चुन सकते हैं। ‘ऐड टू बास्केट’ पर क्लिक करें और बाद में बल्क में लेन-देन करें।
  • जब आप ‘बाय नाउ’ पर क्लिक करते हैं, तो आप अपने ब्रोकर अकाउंट पर चले जाएँगे, तथा आप स्क्रीनशॉट में ‘रिव्यु आर्डर’ पर क्लिक करके अपने आर्डर की समीक्षा कर सकते हैं, फिर ‘प्लेस आर्डर’ और ‘कन्फर्म एंड वोइला!’ पर क्लिक करें। आपका आर्डर प्लेस हो जाएगा।

सुनिश्चित करें कि ऑर्डर प्रोसेस करने के लिए आपके ब्रोकर अकाउंट लेजर में पर्याप्त अमाउंट है।

टिकरटेप के फ़ीचर्स पर गाइडबुक दी गई है जिसका उपयोग आप मुहूर्त ट्रेडिंग की तैयारी शुरू करने के लिए कर सकते हैं:

    – विभिन्न मौलिक और तकनीकी विशेषताओं के आधार पर कंपनियों की स्क्रीनिंग के लिए एक उपकरण। – भारतीय शेयर बाजार के लिए एक सेंटिमेंट इंडिकेटर। – इस साइट पर आप बेसिक फाइनैंशल और आर्थिक शब्दावली सीख सकते हैं और इस मंच की कुछ विशेषताओं के बारे में जान सकते हैं। – यह सुविधा टिकरटेप Tickertape द्वारा विशिष्ट रूप से दी जाती है और इक्विटी में ट्रेड करने के लिए एक नया तरीका बताती है। इसके माध्यम से एक ही समय में कई स्टॉक को खरीदा और बेचा जा सकता है।
  • टिकरटेप चार एसेट वर्गों को सपोर्ट करता है: इक्विटी, एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड (ईटीएफ), म्यूचुअल फंड और इंडिसेस। हर एक में एक एसेट पेज होता है जो इन्वेस्ट करने के निर्णय लेने के लिए प्रमुख तथ्यों की गहराई से जाँच करता है।
  • टिकरटेप आपको अपने पूरे पोर्टफोलियो को मेन्टेन करने और उसको मॉनिटर करने की अनुमति देता है।

अब आप जान चुके हैं कि मुहूर्त ट्रेडिंग पर टिकरटेप का इस्तेमाल करके ऑर्डर कैसे दिया जाता है। अगर आप इन्वेस्ट करने के लिए सही मुहूर्त की तलाश में हैं, तो मुहूर्त ट्रेडिंग 2021 से आप एक अच्छी शुरुआत कर सकते हैं। ऐसी कंपनी की तलाश करें जो अच्छे फंडामेंटल्स, विकास की संभावना और पॉजिटिव कैश फ्लो देती हैं। यदि आप यह फाइनल नहीं कर पा रहे हैं हैं कि किन स्टॉक में निवेश करना है, तो आप टिकरटेप स्क्रीनर का इस्तेमाल करके अपना अध्ययन शुरू कर सकते हैं। इसमें 200 से अधिक फिल्टर होते हैं जो आपको प्रमुख इंडीकेटर्स की मदद से जल्दी से कई कंपनियों को देखने की अनुमति देते हैं।

स्क्रीनर के अलावा, टिकरटेप में और भी इन्वेस्टमेंट एनालिसिस उपकरण हैं जैसे स्टॉक के लिए कॉम्प्रिहेंसिव एसेट पेज, म्यूचुअल फंड, ईटीएफ, इंडेक्स, मार्केट मूड इंडेक्स, और बहुत कुछ।

साल में एक बार मिलने वाले इस अवसर को हाथ से जाने न दें! मुहूर्त ट्रेडिंग सेशन के दौरान इन्वेस्ट करें। शुभ दीपावली, और हम आशा करते हैं कि यह मुहूर्त ट्रेडिंग सेशन आपके लिए सौभाग्य लेकर आए!

Tag: शेयर बाजार

शेयर बाजार share market in hindi

ऐसे में आपके मन में भी कभी ख्याल आता होगा कि क्या है निवेश का ये साधन?, जिसे लेकर लोग इतने उतावले रहते हैं? इसी के साथ ही यदि कहीं आपने किसी से ये पूंछ लिया कि ‘शेयर बाज़ार में निवेश कैसे किया जा सकता है?’ तो भले ही उस आदमी को शेयर बाज़ार के बारे में कुछ न पता हो लेकिन वो आपको तमाम तरह की फिजूल जानकारी देकर भ्रमित कर देगा। ऐसे में आप निवेश को लेकर असुरक्षित कदम भी उठा सकते हैं।

भारत में निवेशकों के बीच निवेश को लेकर दो ही सबसे लोकप्रिय साधन है- सोना और शेयर बाज़ार। तो आइए आज हम जानते हैं कि शेयर बाज़ार में निवेश की शुरुआत किस तरह से की जा सकती है?

शेयर बाज़ार में निवेश कैसे करें?

इसके लिए हम आपको सिलसिलेवार ढंग से जानकारी उपलब्ध करवा रहे हैं कि किस तरह आप वर्तमान में कुछ न जानते हुए भी आगे लिखी जानकारी के जरिये शेयर बाज़ार में निवेश के तरीके को समझ कर उसमें निवेश करने की योजना पर अमल कर सकते हैं।

इसके लिए आपको नीचे लिखे चरणों के तहत आगे बढ़ना होगा-

1. अपना पैन कार्ड बनवाएँ:

शेयर बाज़ार में निवेश की पहल शर्त है कि आपके पास पैन यानी ‘परमानेंट अकाउंट नंबर’ होना चाहिए।

अगर आपके पास पहले से ही पैन कार्ड है, तो आपको नया पैन बनवाने की जरूरत नहीं है, लेकिन अगर आपके पास पैन कार्ड नहीं है तो आपको सबसे पहले पैन कार्ड बनवाना पड़ेगा।

भारत में हर व्यक्ति के लिए एक अनोखे पैन नंबर का आवंटन आयकर विभाग करता है। जिसकी जरूरत सरकार को कर जमा करने, बैंक खाता खोलने व म्यूचुअल फंड में निवेश करने के दौरान पड़ती है।

2. ब्रोकर यानी दलाल के पास जाएँ:

शेयर बाज़ार से शेयर खरीदने व बेंचने का काम सिर्फ अधिकृत व्यक्ति ही कर सकता है, जिन्हे ब्रोकर या दलाल कहा जाता है। ब्रोकर कोई अकेला व्यक्ति या फिर एक कंपनी भी हो सकती है, जिसका काम शेयर बाज़ार से शेयर को खरीदना व बेंचना होता है।

ब्रोकर या दलाल सेबी (भारतीय प्रतिभूति व विनियम बोर्ड) में पंजीकृत होते हैं। बाज़ार के कामकाज पर सरकार की ओर से नज़र रखने की ज़िम्मेदारी सेबी के ही ऊपर होती है।

आप अपने भरोसे के लिए किसी जान पहचान के दलाल के पास जा सकते हैं या किसी पंजीकृत कंपनी के पास भी जा सकते हैं। इसी के साथ अगर आप इंटरनेट पर शेयर के व्यापार को लेकर सहज़ है, तो आप आईसीआईसीआई डायरेक्ट, शेयरखान, कोटक सिक्युर्टीज व इंडिया बुल्स जैसी ऑनलाइन कंपनियों के पास भी जा सकते हैं।

3. खुलवायें डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट

ब्रोकर से बात हो जाने के बाद आपको एक डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट की ज़रूरत पड़ेगी। डीमैट अकाउंट आपके नाम पर शेयरों को जमा बनाए रखता है, यही शेयर आपके स्टॉक पोर्टफोलियो में नज़र आते हैं।

डीमैट अकाउंट ब्रोकर द्वारा आपके नाम आर ख़रीदे गए शेयर को अपने पास जमा कर लेता है और जब आप उस शेयर को बेचने का मन बनाते हैं तब आप इसी डीमैट अकाउंट से अपने शेयर को निकाल सकते हैं।

इसी के साथ यह अकाउंट आपको डीमैट स्टेटमेंट भी उपलब्ध करवाता है।

शेयर खरीदने पर आपको भौतिक रूप में किसी भी तरह का प्रमाणपत्र प्राप्त नहीं होता है, बल्कि आपके शेयर को लेकर जानकारी आपके डीमैट स्टेटमेंट में ही होती है।

शेयर को बेंचने और खरीदने के लिए आपको ट्रेडिंग अकाउंट की ज़रूरत पड़ती है। ट्रेडिंग अकाउंट के जरिये ही आप अपने शेयर के लेन-देन की प्रक्रिया को आगे बढ़ा सकते हैं। आपके लिए ब्रोकर पर जाएँ आमतौर पर यह सारा काम आपका ब्रोकर ही करता है।

ये दोनों ही अकाउंट एक साथ ही खोले जाते हैं तथा एक अकाउंट के बिना दूसरे का कोई अस्तित्व नहीं है।

4. डिपॉज़िटरी पार्टीसिपेंट:

इसके आलवा आपको डिपॉज़िटरी पार्टिसिपेंट को भी ध्यान में रखना होगा। भारत में दो डिपॉज़िटरी पार्टीसिपेंट हैं- एनएसडीएल (नेशनल सेक्युर्टीज पार्टीसिपेंट लिमिटेड) और सीडीएसएल (सेंट्रल डिपॉज़िटरी सर्विस लिमिटेड)। ये दोनों ही डिपॉज़िटरी आपके द्वारा ख़रीदे गए शेयर को अपने पास रखने का काम करती है।

ऊपर बताया गया डीमैट अकाउंट जहाँ आपके मौजूद शेयर की जानकारी अपने पास रखता है व ट्रेडिंग अकाउंट आपके द्वारा खरीदे और बेंचे गए शेयरों की जानकारी आपको देता है, लेकिन जब आप दलाल के माध्यम से कोई शेयर खरीद लेते हैं तो आपके नाम पर ख़रीदे गए शेयर को जमा करने के लिए डिपॉज़िटरी पार्टिसिपेंट की ज़रूरत पड़ती है। इसका भी लेखा जोखा आपका ब्रोकर ही संभालता है।

आपके लिए जरूरी है कि आपका ट्रेडिंग अकाउंट डिपॉज़िटरी में भी रजिस्टर हो।

5. बड़ा निवेश करने के लिए चाहिए होगा यूआईएन:

अगर आप एक बार में 1 लाख रुपये या उससे भी बड़ा निवेश करा चाहते हैं तो आपको यूआईएन मतलब यूनिक इंडेंटिफिकेशन नंबर लेना होगा। 1 लाख से कम के निवेश के लिए यूआईएन की कोई आवश्यकता नहीं है।

6. कैसे खरीदें और बेंचें शेयर?

किसी भी शेयर को खरीदने और बेंचने के लिए आपको अपने ब्रोकर को पहले ही सूचित करना होगा। इसके लिए आपको अपने ब्रोकर को बताना होगा कि आप कौन सी कंपनी का शेयर, ब्रोकर पर जाएँ किस मात्र में और कितने दाम पर खरीदना या बेंचना चाहते हैं।

उदाहरण के तौर पर अगर आप किसी ‘एबीसी’ कंपनी के 10 शेयर, 348 रुपये कीमत पर खरीदना चाहते हैं, तो आपको अपने ब्रोकर को बताना होगा कि शेयर खरीदना:’एबीसी’, मात्रा:10,कीमत:348 रुपये।

तब आपका ब्रोकर उस कंपनी के शेयर के की कीमत 348 रुपये पर आते ही आपके लिए 10 शेयर खरीद लेगा।

यही काम आपको तब भी करना है, जब आपने किसी ऑनलाइन ब्रोकर की सुविधा ले रखी है। हालाँकि ऑनलाइन ब्रोकर अब कॉल के माध्यम से भी यह सुविधा आप तक पहुँचा देते हैं।

अगर आपको किसी शेयर को बेंचना है, तब भी आपको अपने ब्रोकर को इसी तरह से निर्देश देना होगा, जैसे शेयर बेंचना:’एबीसी’,मात्रा:4,कीमत:348 इसी के साथ आपका ब्रोकर आपके डीमैट खाते में पड़े एबीसी कंपनी के 4 शेयरों को 348 रुपये की कीमत पर आने पर बेंच देगा। ब्रोकर को दिया गया निर्देश अधिकतम 2 दिन के लिए ही मान्य होता है। ऐसे में अगर आपका लेन-देन किसी वजह से पूरा नहीं हो पता है, तो आपको उसे दोबारा से शुरू करना होगा।

भारत में बीएसई (बॉम्बे स्टॉक एक्स्चेंज) और एनएसई (नेशनल स्टॉक एक्स्चेंज) शेयर बाज़ार के आधार हैं। इन्हीं के तहत शेयरों का व्यापार होता है।

ऐसे में आपको अपने ब्रोकर ये बात पहले से ही बतानी होगी कि आप किस एक्स्चेंज के शेयर को खरीदना चाहते हैं। दोनों ही एक्स्चेंज के शेयरों के व्यापार में कोई खासा अंतर नहीं होता है।

शेयर बाज़ार में अपने लेन-देन को लेकर किसी भी तरह की परेशानी होने पर फौरन अपने ब्रोकर से संपर्क करें। शेयर बाज़ार का लेन-देन पूंजी के खेल पर आधारित होता है, कई बार आप फायदे में होते हैं, तो कई बार आपको नुकसान उठाना पड़ सकता है।

ऐसे में आप शुरुआती दौर में उन कंपनियों के शेयरों पर पैसा लगाएँ जो बाज़ार में अपेक्षाकृत बेहतर प्रदर्शन करती है।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज और यूनिसेफ ने उद्योगपतियों और कॉरपोरेट्स से बच्चों और युवाओं में निवेश करने का आग्रह किया

Children take over the National Stock Exchange to raise their voice in solidarity for protecting and promoting children's rights.

मुंबई, भारत, 05 अक्टूबर 2018: यूनिसेफ की एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर हेनरीएटा फोर ने आज यहां नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड (एनएसई) में 'क्लोजिंग बेल' बजाकर आने वाले समय में बच्चों और युवाओं में निवेश करने की आवश्यकता पर बल दिया।

इस समारोह में श्री विक्रम लिमये, प्रबंध निदेशक, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज; डॉ यास्मीन अली हक, राष्ट्र प्रतिनिधि, यूनिसेफ इंडिया; और श्री रितेश ब्रोकर पर जाएँ अग्रवाल, ओयो रूम्स के संस्थापक और सीईओ, भी मौजूद थे।

इस मौके पर सुश्री फोर ने कहा, "भारतीय व्यापार समूह में यह समझ बढ़ रही है कि साझी मान्यताएं - जो इस विचार से उत्पन्न होती है कि परोपकार ही अच्छा व्यापार है - स्वस्थ, बेहतर शिक्षित, और अधिक संपन्न ब्रोकर पर जाएँ जन समूह को समर्थन देकर विकसित की जा सकती है। व्यापार जगत के लिए यह अनिवार्य नहीं कि उसका मुनाफा समुदाय हित की अनदेखी कर के ही प्राप्त किया जाए। वास्तव में, उनका मुनाफा स्थानीय समुदाय और वहां रहने वाले लोगों की बेहतर सेवा और मदद करके भी कमाया जा सकता है। एक पैनल चर्चा के दौरान पैनलिस्ट्स ने चर्चा की, कि कैसे व्यवसायी और उद्योगपति यूनिसेफ और एनएसई जैसे संगठनों के साथ मिलकर बच्चों और युवाओं के हित के लिए समाधान खोज सकते हैं। चर्चा में इस बात पर भी प्रकाश डाला गया कि किस तरह ब्रोकर पर जाएँ ब्रोकर पर जाएँ व्यवसाय लिंग भेद का मुकाबला करने के लिए अधिक कार्य कर सकते हैं, और ऐसी सामाजिक बाधाओं का विरोध कर सकते हैं जो कार्यस्थल में लैंगिक असमानताओं को मजबूत करती हैं। पैनलिस्टों ने इस बात पर भी गौर किया कि विश्व में किशोरों और युवाओं की तेज़ी से बढ़ती आबादी को ध्यान में रखते हुए कार्यकुशलता में कमी को पूरा करने के लिए शिक्षा और कौशल प्रशिक्षण में तत्काल निवेश की आवश्यकता है।

एनएसई के एमडी और सीईओ, श्री विक्रम लिमये ने कहा, “आने वाले समय में नवीन सामाजिक उद्यमों, सहकारी समितियों, स्वयं सहायता समूहों, पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप जैसे सब को साथ लेकर चलने वाले व्यापार मॉडलों पर एक केंद्रित रणनीति तैयार करने कि आवश्यकता है, जिससे महिलाओं, बुजुर्गों और हाशिए पर रहने वाले अन्य वंचित वर्गों का वित्तीय सशक्तिकरण होगा। इस तरह के निष्पक्ष व्यवसाय मॉडल की नवरचना देश के आर्थिक विकास को एक नयी दिशा ब्रोकर पर जाएँ देगी, ताकि कारोबार का लाभ समाज के हर वर्ग तक पहुंचे। एनएसई फाउंडेशन के माध्यम से एनएसई दृढ़ता से उन नए और केंद्रित कदमों का समर्थन करने में विश्वास रखता है जो हाशिए और वंचित समुदायों के सबसे गरीब लोगों को प्रभावित करते हैं, जो आज भारत के विकास ब्रोकर पर जाएँ की तस्वीर का हिस्सा हैं।"

ओयो रूम्स के सीईओ और संस्थापक श्री रितेश अग्रवाल ने कहा, “हम जैसे युवा जो कर सकते हैं, उसकी क्षमता की कोई सीमा नहीं है। हमें ज़रूरत है सही अवसर और कौशल की। मैं हर तरह से यूनिसेफ के प्रयासों का समर्थन करने के लिए प्रतिबद्ध हूं।" वर्तमान परिवेश में युवा लोगों में समान निवेश ही सबसे अच्छा और मूल्यवान लम्बी अवधि का निवेश है, जो सरकारें और व्यवसाय कर सकते हैं। युवा लोगों में निवेश करना वास्तव में उपयोगी है, क्योंकि इससे अर्थव्यवस्था और समाज को सकारात्मक लाभ मिलते हैं।

इस सप्ताह की शुरुआत में नई दिल्ली में यूनिसेफ ने नीति आयोग के साथ मिलकर 'युवाह!' का शुभारंभ किया। यह युवाओं, सरकार, नागरिक समाज और निजी क्षेत्र को एक साथ लाने वाला मंच है, जिसका उद्देश्य है ऐसे समाधान खोजना जो युवाओं के लिए आवश्यक बदलावों में तेजी ला सके।

संपादकों के लिए टिपप्णी

सुश्री फोर, जो 1 जनवरी 2018 को संयुक्त राष्ट्र बाल कोष की सातवीं कार्यकारी निदेशक बनीं, उन्हें सार्वजनिक विकास, निजी क्षेत्र और गैर-लाभकारी क्षेत्र में आर्थिक विकास, शिक्षा, स्वास्थ्य, मानवीय सहायता और आपदा राहत में अपने काम व नेतृत्व के लिए जाना जाता है।

अपने चार दशक से अधिक के कार्यकाल में, सुश्री फोर ने 2007 से 2009 तक एडमिनिस्ट्रेटर ऑफ़ यूएस एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डेवलपमेंट (यूएसएआईडी) और डायरेक्टर ऑफ़ यूनाइटेड स्टेट्स फॉरेन असिस्टेंस के रूप में कार्य किया। 2009 में उन्हें डिस्टिंग्विशड सर्विस अवार्ड (विशिष्ट सेवा का पुरस्कार) मिला, जो कि संयुक्त राज्य अमरीका के सेक्रेटरी ऑफ़ स्टेट द्वारा दिया जाने वाला सर्वोच्च पुरस्कार है।

2005 से 2007 तक, उन्होंने अंडर सेक्रेटरी ऑफ़ स्टेट फॉर मैनेजमेंट के रूप में काम किया, जो कि डिपार्टमेंट ऑफ़ स्टेट के चीफ ऑपरेटिंग अफसर हैं।

कृपया उनके शैक्षिक अभिलेख और कार्य अनुभव के लिए यह लिंक (link to her CV) देखें।

रेटिंग: 4.90
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 810
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *