ट्रेडिंग के लिए ब्रोकर समीक्षा

बिटकॉइन किसने बनाया था

बिटकॉइन किसने बनाया था

बिटकॉइन क्या है किसने बनाया और कैसे खरीदें | Bitcoin In Hindi

Bitcoin Kya Hai In Hindi: बिटकॉइन का नाम तो आप लोगों ने जरुर सुना होगा, क्योंकि आज बिटकॉइन किसने बनाया था के समय में यह Crptocurrency बहुत चर्चा में है इसलिए सभी लोग बिटकॉइन के बारे में जानना चाहते हैं. बिटकॉइन या टेक्नोलॉजी में रूचि रखने वाले लोग अक्सर इंटरनेट पर सर्च करते हैं कि Bitcoin क्या होता है.

अगर आपको भी बिटकॉइन के बारे में जानना है तो यह लेख आपके लिए ही है. हमने इस लेख के द्वारा कोशिस की है कि आपको बिटकॉइन के बारे में पूरी जानकारी प्रदान करा सकें.

इस लेख में आपको जानने को मिलेगा कि Bitcoin क्या है इन हिंदी, बिटकॉइन का आविष्कार किसने किया, बिटकॉइन का उपयोग कहाँ किया जाता है, आप कैसे एक बिटकॉइन खरीद सकते हैं, बिटकॉइन के फायदे और नुकसान क्या हैं और क्या भारत में बिटकॉइन लीगल है.बिटकॉइन किसने बनाया था

हमें पूरी उम्मीद है कि इस लेख में आपके बिटकॉइन से सम्बंधित अनेक सारे Confusion दूर हो जायेंगे, लेकिन उसके लिए आपको इस लेख को पूरा पढना होगा. तो चलिए शुरू करते हैं आज का यह लेख और जानते हैं बिटकॉइन क्या होता है विस्तार से.

Current Affairs: इस शख्स ने बनाई और पहली बार बेची बिटक्वाइन, जानिए क्रिप्टो करेंसी की पूरी ABCD

इस वक्त एक बिटक्वाइन की कीमत करीब 37 लाख रुपये है. क्या आपने सोचा है कि आखिर पहला बिटक्वाइन किसने खरीदा था.

alt

5

alt

6

alt

5

alt

5

नई दिल्ली: Current Affairs: क्रिप्टो करेंसी (Cryptocurrency) की दुनिया एक बार फिर चर्चा में है. इलेक्ट्रॉनिक गाड़ियां बिटकॉइन किसने बनाया था बनाने वाले उद्योगपति एलन मस्क (Elon musk) ने कुछ दिनों पहले घोषणा की थी कि वो टेस्ला की गाड़ियां खरीदने के लिए बिटक्वाइन (Bitcoin) को मंजूरी देंगे. लेकिन अब वह इस बिटकॉइन किसने बनाया था बात से पलट गए और ये योजना रद्द कर दी. उनकी इस एक घोषणा से बिटक्वाइन की कीमत में 10 फ़ीसदी की गिरावट दर्ज की गई. लेकिन उसके बावजूद इस वक्त एक बिटक्वाइन की कीमत करीब 37 लाख रुपये है. क्या आपने सोचा है कि आखिर पहला बिटक्वाइन किसने खरीदा था.

इस शख्स ने बनाई बिटक्वाइन
जिस बिटक्वाइन को लेकर पूरी दुनिया में इस वक्त हंगामा मचा हुआ है, उसे Satoshi Nakamoto नाम एक डेवलपर ने बनाया था. साल 2007 में उन्होंने बिटक्वाइन की कोडिंग लिखनी शुरू की. इसके करीब 1 साल बाद साल 2008 में बिटक्वाइन नाम से वेबसाइट के लिए डोमेन रजिस्टर्ड कराया. इसके बाद इस आभासी करेंसी के बारे में पूरे नियम-कायदे भी बताए.

लेकिन पहले बिटक्वाइन के लेनेदेन में करीब 2 साल से भी ज्यादा लग गया. पहला बिटक्वाइन Hal Finney नाम के प्रोग्रामर बिटकॉइन किसने बनाया था ने खरीदा. यह काम उन्होंने 12 जनवरी 2009 को किया. देखते ही देखते बिटक्वाइन पूरी बिटकॉइन किसने बनाया था दुनिया को हिलाने लगा.

क्या है बिटक्वाइन
बिटक्वाइन एक क्रिप्टोकरेंसी है. सीधे शब्दों में एक डिजिटल करेंसी. इसमें लेनदेन की सारी जानकारी को Encrypt करके एक डाटाबेस में सुरक्षित रखा जाती है. इसके लिए ब्लॉक चेन तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है. इस तकनीक में जानकारी को डिजिटली ब्लॉक के रुप में सुरक्षित किया जाता है. प्रत्येक ब्लॉक अपना स्पेशल सिग्नेचर होता है.

अब आप सोच रहे हैं कि जब करेंसी है, तो क्रिप्टोकरेंसी का जरूरत क्यों पड़ी? दरअसल, इसका मुख्य उद्देश्य है कि बिना किसी बिचौलिये की मदद से पैसों का लेनदेन करना. या कहें कि बिना किसी बैंकिंग सिस्टम के पैसों को इधर से उधर करना. इस वक्त बिटक्वाइन के अलावा 150 से अधिक क्रिप्टोकरेंसी मौजूद हैं.

भारत में क्या है स्थिति
भारत की बात करें, तो पहले क्रिप्टोकरेंसी को बैन कर दिया गया था. लेकिन साल 2018 में सुप्रीम कोर्ट ने RBI के आदेश को हटाते हुए प्रतिबंध हटा दिए. वहीं, बिटकॉइन किसने बनाया था ये भी माना जा रहा है कि भारत अपनी क्रिप्टोकरेंसी ला सकता है. हालांकि, इसके सामने कई किस्म की चुनौतियां है. इसके अलावा बिटक्वाइंन के सुरक्षित करने के लिए खपत होनी वाली बिजली को लेकर भी इसका विरोध हो रहा है.

क्रिप्टो करेंसी की कब हुई थी शुरुआत, क्या हैं इसके फायदे और नुकसान, समझिए पूरा हिसाब

इन दिनों जिस क्रिप्टो करेंसी का जलवा है, ये डिजिटल करेंसी है. इसे आप छू नहीं सकते, लेकिन हां अमीर जरूर हो सकते हैं. आमतौर पर इसका इस्तेमाल किसी सामान की खरीदारी या कोई सर्विस खरीदने बिटकॉइन किसने बनाया था के लिए किया जा सकता है.

क्रिप्टो करेंसी की कब हुई थी शुरुआत, क्या हैं इसके फायदे और नुकसान, समझिए पूरा हिसाब

TV9 Hindi | Edited By: रोहित ओझा

Updated on: Dec 23, 2020 | 9:13 AM

डिजिटल होती दुनिया में हर चीज वर्चुअल होती जी रही है. डिजिटल पेंमेट की सुविधा ने लोगों की लाइफ को काफी आसान बना दिया है. डिजिटल होते इस वर्ल्ड में क्रिप्टो करेंसी का क्रेज बढ़ गया है. दुनिया के हर एक देश की अपनी मुद्रा है. जैसे-भारत में रुपया, अमेरिका में डॉलर और ब्रिटेन में पाउंड. लेकिन इन दिनों जिस क्रिप्टो करेंसी का जलवा है, ये डिजिटल करेंसी है. इसे आप छू नहीं सकते, लेकिन हां अमीर जरूर हो सकते हैं. आइए अब समझ लेते हैं इस क्रिप्टो करेंसी का पूरा हिसाब.

कंप्यूटर एल्गोरिथ्म पर बनी क्रिप्टो करेंसी एक इंडिपेंडेंट मुद्रा है. यह बिटकॉइन किसने बनाया था करेंसी किसी भी एक अथॉरिटी के काबू में भी नहीं होती. जैसे रुपया, डॉलर, यूरो या अन्य मुद्राओं का संचालन देश की सरकारें करती हैं, लेकिन क्रिप्टो करेंसी का संचलान कोई भी अथॉरिटी नहीं करती. यह एक डिजिटल करेंसी होती है. इसके लिए क्रिप्टोग्राफी का प्रयोग किया जाता है. आमतौर पर इसका प्रयोग किसी सामान की खरीदारी या कोई सर्विस खरीदने के लिए किया जा सकता है.

जापान के एक इंजीनियर ने की थी शुरुआत

सबसे पहले साल 2009 में क्रिप्टो करेंसी की शुरुआत हुई थी, जो बिटकॉइन थी. जापान के इंजीनियर सतोषी नाकमोतो ने इसे बनाया था. शुरुआत में इसे कोई खास सफलता नहीं मिली, लेकिन धीरे-धीरे इसकी कीमत आसमान छूने लगी और ये पूरी दुनिया में छा गया.

क्रिप्टो करेंसी के क्या हैं फायदे और नुकसान

क्रिप्टो करेंसी के कई फायदे हैं और इसके नुकसान भी हैं. पहला फायदा ये है कि डिजिटल करेंसी होने के कारण धोखाधड़ी की गुंजाइश ना के बराबर है. दूसरा ये कि इसकी कोई नियामक संस्था नहीं है. इसलिए नोटबंदी या करेंसी के अवमूल्यन जैसी स्थितियों असर इसपर नहीं पड़ता. क्रिप्टोकरेंसी में मुनाफा अधिक होता है और ऑनलाइन खरीदारी से लेन-देन आसान होता है. इसका सबसे बड़ा नुकसान है कि वर्चुअल करेंसी में भारी उतार-चढ़ाव आपके माथे पर पसीना ला देगा.

एक रिपोर्ट के अनुसार, पिछले पांच साल बिटकॉइन किसने बनाया था में बिटकॉइन जैसी वर्चुअल करेंसी एक ही दिन में बिना किसी चेतावनी के 40 से 50 प्रतिशत गिर गई थी. इसका सबसे बड़ा नुकसान ये होता है कि वर्चुअल करेंसी होने के कारण इसमें सौदा जोखिम भरा होता है. इस करेंसी का इस्तेमाल ड्रग्स सप्लाई और हथियारों की अवैध खरीद-फरोख्त जैसे अवैध कामों के लिए किया जा सकता है. , इसका एक और नुकसान यह है कि यदि कोई ट्रांजेक्शन आपसे गलती से हो गया तो आप उसे वापस नहीं मंगा सकते हैं.

क्रिप्टो करेंसी से क्या भारत में होता है लेनदेन

भारत में क्रिप्टो करेंसी के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया था और वर्चुअल करेंसी के बिटकॉइन किसने बनाया था माध्यम से क्रिप्टोकरेंसी में लेन देन की इजाजत दी थी. साल 2018 में इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने भारतीय रिजर्व बैंक के सर्कुलर पर आपत्ति जताते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की थी. बिटकॉइन के अलावा भी रेड कॉइन, सिया कॉइन, सिस्कोइन, वॉइस कॉइन और मोनरो कॉइन जैसी अन्य क्रिप्टो करेंसी बाजार में उपलब्ध हैं.

बिटकॉइन के बारे बिटकॉइन किसने बनाया था में ये जान लीजिए क्योंकि कोई बताएगा नहीं

बिटकॉइन के बारे में ये जान लीजिए क्योंकि कोई बताएगा नहीं

इंटरनेट की रहस्यमय करेंसी बिटकॉइन को 8 साल ही हुए हैं लेकिन इसके खूब चर्चे हैं. इसके भाव हैरान करने वाले हैं तो बहुत से लोग इस बात से अचरज में हैं कि कैसे घर बैठे लोग बिटकॉइन से ही करोड़पति बन गए हैं. इसे क्रिप्टोकरेंसी का बादशाह कहा जा सकता है क्योंकि कई करेंसी आई और गईं बिटकॉइन पूरे दम-खम से कायम है. हम ऐसी 10 बातें आपको बता रहे हैं जो शायद किसी ने ना बताई हों पर ये जानना बेहद जरूरी है.

1. पहली बार बिटकॉइन से पिज्जा खरीद

22 मई को बिटकॉइन पिज्जा डे के तौर पर मनाया जाता है? लेकिन इसकी वजह क्या है बहुत कम लोग जानते होंगे. असल में पहली बार 22 मई 2010 को बिटकॉइन से पिज्जा खरीदा गया था. उस वक्त ये बड़ी बात थी क्योंकि तब तक कोई रिटेलर बिटकॉइन को करेंसी के बदले स्वीकार नहीं करता था.

22 मई 2010 को 10,000 बिटकॉइन के बदले लेजलो हैंयेज ने पापा जॉन के दो पिज्जा खरीदे थे. उस वक्त 10,000 बिटकॉइन का दाम $41था. अब एक बिटकॉइन का दाम 15000 डॉलर है.

2. बिटकॉइन की सीमित सप्लाई

बिटकॉइन की तादाद सीमित है सिर्फ 2.10 करोड़ ही है, इससे ज्यादा नहीं. अब तक सिस्टम में 1.67 करोड़ बिटकॉइन जारी हो चुके हैं. माइनिंग के जरिए हर 10 मिनट में करीब 12.5 नए बिटकॉइन रिलीज हो रहे हैं. माइनिंग का मतलब यह नहीं कि इन्हें माइन से निकाला जाता है. बल्कि नए बिटकॉइन के लिए दुनियाभर में कंप्यूटर नेटवर्क में कंपिटीशन मेंं नए बिटकॉइन तैयार होते हैं.

3. गुप्त चाबी (पासवर्ड) गुमी तो बिटकॉइन स्वाहा

बिटकॉइन के लिए प्राइवेट की (पासवर्ड) या चाबी जरूरी है. अगर यह लापता हुए तो बिटकॉइन भी जाना तय मानिए. अमेरिका के जेम्स हॉवेल ने जरा सी लापरवाही से 7,500 बिटकॉइन गवां दिए थे. 2013 में घर की सफाई के वक्त हॉवेल ने अपनी हार्ड डिस्क फेंक दी थी जिसमें बिटकॉइन का पासवर्ड था. अभी के भाव में इनकी कीमत करीब 10 करोड़ डॉलर है.

रेटिंग: 4.40
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 404
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *